Wednesday, 15 June 2016

तेरे नैन मेरे बैन …

तेरे नयनो की धवल शांति में
डूबता तैरता मेरा मन
कभी तिनके का सहारा
कभी स्वयं जलधारा
नयनो के सहारे हृदय की दहलीज़ पर
दस्तक देता मेरा मन


रचना को पूरा पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें...