Monday, 28 November 2016

न जाने कहाँ को चले जा रहे हैं ।

न जाने कहाँ को चले जा रहे हैं ।

भरी है दुपहरी बहे जा रहे हैं
न जाने कहाँ को चले जा रहे हैं ।
चले जा रहे हैं ।

खड़े पीठ करके भले उस तरफ हों
मगर मंजिलों को तके जा रहे हैं।
चले जा रहे हैं ।

Monday, 10 October 2016

ऐ दोस्त…तुम ऐसे तो न थे

ऐ दोस्त…तुम ऐसे तो न थे



जब से तुमको जाना है, तुम ऐसे न थे ।
यूँ कैसे बिखर गए, तुम ऐसे न थे ।
देखा गम से हमेशा दूर, तुम ऐसे न थे ।
चेहरे पर भोलापन आँखों में चंचलता
न जाने कहाँ खो दी, तुम ऐसे न थे ।
तुमने ही थी सिखाया ज़िन्दगी को जीना
यूँ कैसे बेरंग बना बैठे, तुम ऐसे न थे ।

Tuesday, 20 September 2016

प्यार

प्यार



जाने कितने संसार बिखर गए माता तेरे प्यार में
जाने कितने लाल गुजर गए माता तेरे प्यार में
गुज़र गए और बिखर गए जो फूल चुने थे प्यार से
आँचल के तेरे रंग रंगा गए माता तेरे प्यार में ॥

Wednesday, 24 August 2016

चलन ज़िन्दगी का

पहिया बताता है
चलन ज़िन्दगी का
गड्ढों भरी
कंकड़ी, पथरीली, साधारण और शानदार
ऊंची नीची मखमली घाटियाँ
फूलों से भरी
सीखता है तमन्नाओं पर काबू करना
न बहकना न थिरकना न ही धधकना
चड़ता है कोमल राहों पर
और टूटे लम्हों पर भी
सिखाता है
खुशियों भरी राहें जल्दी कटती हैं
दुःख की धीरे
दूरी उतनी है
समझाता है कि
आवश्यक है
विश्वास, परिश्रम, निरंतरता
इस समझ के साथ कि
हम वही आ जाते है
एक चक्कर के बाद
अगले चक्कर के लिए...

Wednesday, 20 July 2016

कारण

दर्द नहीं है कोई मौका किसी को युहीं जो मिल जाये
फूल नदी या हवा का झोंका बस युहीं जो चल जाये
फूलों के बिस्तर वाले इसकी कीमत क्या जानेंगे
दर्द उसी को मिलता है जो मरते मरते भी जी जाये ।
दर्द नहीं है लक्ष्य किसी का पाकर जो वो इतराए
नहीं है उत्कंठा कोई जो चखकर देखी ही जाये
कहने वाले कहते हैं की दर्द का कारण ये वो है
नहीं है ये दौलत कोई किसी को यूँ ही दी जाये।
दर्द नहीं है जिज्ञासा कि जिसको छूकर देखा जाये
नहीं दर्द कि परिभाषा कि जिससे समझ में आ जाये
ये तो उपपरिणाम है किसी लक्ष्य के पीछे का
जीतनी ज्यादा हो लगी लगी ये उतना ही बढ़ता जाये।
जीतनी गहराई से सोचा कि इस मंज़िल को पा जाये
दुनिया सारी छूटे मुझसे पर ये आँचल में आ जाये
रास्ता छूटे या देर लगे ये पीड़ा का उद्गगम भर है
जितना विशेष हो कारण वो उतना ही हमको है तडपाये।
अपनी चाहत को लेकर के संदेह कभी जो आ जाये
तो लेना दिल में झांक जरा सा दर्द कहीं जो मिल जाये
बस यही निशानी है उसकी कि सच्चा था विश्वास तुम्हे
जीवन पुष्पित फिर हो जाये जो तार दिलों में हिल जाये।
दर्द नहीं कोई धोखा जो तुमको कोई भी दे जाये
कितना था तुमने प्रेम किया उसका परिमाण बता जाये
जब कम था तब ये थोड़ा था जब ज्यादा था तो बहुत मिला
अपने जीवन कि सत्यकथा ये दर्द हमें ही बतलाये ॥
दर्द नहीं है कोई मौका किसी को युहीं जो मिल जाये॥॥॥
सम्पूर्ण कविता पथ के लिए कृपया निम्नांकित लिंक पर जाएँ



कारण




Thursday, 7 July 2016

सुनो तो

सुनो तो



काली घनेरी बूँद से पूछो क्यों रो दिए
इंसान हर तरफ मिला इंसान खो दिए ।

मंदिर हो या मस्जिद कहीं कलीसा सभी जगह
वो तू ही था हर उस जगह, जिसको नज़र किये ।

ऐसा लगे क्यों तुझमे नहीं है कोई रहम
या फिर गुनाह कर दिए अल्लाह जो कहे ।

मजहब नहीं सीखता है गर आपस में रखना बैर
फिर क्यों उसी के नाम पर इतने कतल किये ।

क्या माँ के नाम से बड़ा दुनिया में है मजहब
वो कौन सी आयत थी जो माँ ही ले गए ।
(http://navbharattimes.indiatimes.com/world/asian-countries/twin-allegedly-killed-mother-after-being-stopped-from-joining-isis/articleshow/53080931.cms)

तुझको जरा भी है लगी इस कायनात से 
इंसानियत तू ही पढ़ा या कर फ़ना उन्हें ।

है इल्तिज़ा नहीं मेरी हर दिल की है दुआ
तेरी राज़ा का आसरा है आज भी हमें ।

दरिया ख़ुलूस की बहा नहीं तो सुनेगा फिर
इंसान हर तरफ मिला इंसान खो दिए ।
====== ६ जुलाई २०१६ को लिखित

Sunday, 3 July 2016

कोई तो लौटाए

कोई तो लौटाए





लौट आते वो पंछी

आम कि छावों

वही अपना गांव

बारिश सा बनी नदिया

उसमे लहराती इठलाती नईया

पुरानी यादें

तोतले यारों कि बातें

अपनों का साथ

दूर से आती बारात

तारों भरी रात

माँ का प्यार

फिर जोर से पड़ा हाथ

.......

Wednesday, 29 June 2016

“तो क्या हो ……………”


“तो क्या हो ……………”


तेरे पहलू में सर छुपा ले तो क्या हो
इस जहाँ को शमशान बना दे तो क्या हो
जी नहीं सकते इक पल भी तुम बिन
तुझे इस जहाँ से चुरा ले तो क्या हो
दामन-ए-वक़्त में है तेरा मिलना
वक़्त पे बांध बना दे तो क्या हो
कहने को कहते हैं “खुदी को कर बुलंद इतना ……”
खुद ख़ुदा को जमीं पे ला दे तो क्या हो
मोहब्बत और जंग में सब जायज़ हे शायद
जंग को मोहब्बत बना दे तो क्या हो
लड़ने को तो ज़िन्दगी हे सारी
अब के ये दो पल मोहब्बत से बिता दे तो क्या हो
तेरे पहलू में ……………….

Wednesday, 22 June 2016

भीख या माध्यम

ज़िन्दगी मांगती है भीख
हर रोज़
खुशियों अरमानो सम्बन्धों
पैसो की भी
पर सच में पैसो की किसी को जरूरत है क्या
…..शायद नहीं
ये तो बस माध्यम है बाकी सब पाने का
जीत जाने का हार जाने का
किसी को पाने का
खुद के टूट जाने का
फरेब और प्यार
विश्वास और घात
इसके कारण नहीं होते
ये तो बस माध्यम ही है.............
रचना को पूरा पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें...




Wednesday, 15 June 2016

काश…

मुहब्बत में जलाकर आज भी रखे दिये हमने
कभी तू लौटकर देखे अँधेरा न मिले घर में॥
ख़ुशी मिलती है, तेरी शोहबतें हासिल नहीं मगर
तेरी यादों के हाथो सौंप दी ये ज़िन्दगी हमने ॥
छुपा के रखे है हमने सभी जज़्बात इस दिल के
की खातिर इस ज़माने के तुम्हे झूठा कहा हमने ॥
मेरे अल्फाज़ कमतर है तुम्हारे इश्क़ की खातिर
ज़ुबान को रोककर सबकुछ बताया रूह से हमने ॥
हमारी चाहतें बेड़ी नहीं है पैर की तेरे
तुम्ही से हारकर खुदको तुम्हे जीता है फिर हमने ॥
सुना है आप कहते हो लिखा क्या खूब नगमा है
हरफ को देने से पहले सहा है दर्द सब हमने ॥
वजह सोचा किये क्यों आपने छोड़ा हमें तन्हा
बसा रखा है जब तुमको नसीबो में मेरे रब ने ॥
मुहब्बत में जलाकर आज भी रखे दिये हमने
कभी तू लौटकर देखे अँधेरा न मिले घर में॥
——
१७ मई २०१६ को लिखित

कुछ बात करें…

आओ कुछ बात करें
सुने सुनाएँ
अपने तुम्हारे दिलों की
चीखे चिल्लाएं
महसूस करें
साँसों की जुंबिश
हाथों की थिरकन
होठों की लरज़ और
माथे की शिकन
गएँ उन गीतों को जो
हमारे थे
कोसें उन लम्हों को जो
हमारे नहीं थे
आखिर सालों में मिले है हम
तो आओ कुछ बात करें ।

रचना को पूरा पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें...

तन्हा राहें और तुम

उन्ही राहों पर हम तन्हा चले हैं
कदम के निशाँ तेरे मेरे पड़े हैं ॥
वही रंग हैं और वही रूप भी है
मगर पेड़ नज़रें झुकाए खड़े है ॥
बुलाया हमें उस गहरी नदी ने
जिसके किनारे सूने बड़े है ॥
मुझे देखकर फिर रोने को आई
वो कश्ती के चप्पू टूटे पड़े है ॥
तेरे साथ की फिर महक ढूंढता है
चमन में वीराने बिखरे पड़े है ॥
तुम्हे पूछता था पीछे का पर्वत
जहाँ दिल हमारे बिखरे पड़े है ॥
अभी थोड़े लम्हे जो गुज़रे यहाँ से
हमें तन्हा पाकर सिसकने लगे हैं ॥
मेरी रूह भी अब यही पूछती है
मैं ज़िंदा हूँ क्यों जब तुमसे परे है ॥
कभी बैठो फुरसत से तभी सोचना ये
फ़िक्र क्यों तुम्हारी करने लगे है ॥
उन्ही राहों पर हम तन्हा चले हैं
कदम के निशाँ तेरे मेरे पड़े हैं ॥

====
२० मई २०१६ को लिखित

तेरे नैन मेरे बैन …

तेरे नयनो की धवल शांति में
डूबता तैरता मेरा मन
कभी तिनके का सहारा
कभी स्वयं जलधारा
नयनो के सहारे हृदय की दहलीज़ पर
दस्तक देता मेरा मन


रचना को पूरा पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें...

प्यार: जवाब या सवाल…


अच्छा हुआ जो कोई जवाब ना दिया
रुसवा जो हो मुहब्बत वो लम्हात ना दिया ।
कोई तो दाग लगता दमन में प्यार के
इस डर से उस सवाल से मुंह ही चुरा लिया ।
कोई तो हूक होगी मेरे हुक़ूक़ की
दिल की जुबाँ पे आपने मेरा नाम जो लिखा ।
रोया था मैँ भी साथ में तेरे बजूद के
आंसू की हर चुभन को हंसकर दबाया दिया ।
मन की हर इक दरार बुलाती है हर दफा
मजबूरियों के डर से जिसको छुपा लिया ।
तेरी वफ़ा पे हर जगह हमको यकीन है
बस तू कभी न सोचना हमने भुला दिया ।
देंगे तुम्हारा साथ तो हम हर जनम जनम
साथी हो तुम ख़ुदा ने ही हमको मिलाया था ।
कोई जवाब हो न हो लफ्ज़ो की छाव में
साँसो की लरज़ में दीदार-ए-यार हो गया ।
शिकवा करें तो क्यों महबूब से मेरे
रुसवाइयाँ कहाँ से हो जब प्यार हो गया ।
अच्छ हुआ जो कोई…

तमन्ना…

जिसके लिए जलाए थे सितारे चराग से
पूनम की उस चमक को बादल चुरा लिए ।
झूठे से दो पलों की शिकायत करें तो क्यों
न तुम कभी खफा थे न हम बेवफा हुए ।
शर्मों हया की सुर्खियां खामोशियाँ बनी
ज़ाहिर न इशारा किये नुमायां नहीं किये ।
लूटे थे खुद ही आपकी खुशियां तमाम जो


रचना को पूरा पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें...

पुष्प, दीप्ति – एक नया संसार



सोचा था क्या बनेंगे हम
बने दीप्ति या बने सुमन
दीप्ति बने तो जलन साथ में
सुमन बने तो मिले चुभन
सोचा था क्या बनेंगे हम
दीपक बनकर आग लगा दे
इस दुनिया को खाक बना दे
जी भर साथ में शूल मिलेंगे
तो क्यों ऐसा बने चमन
सोचा था क्या बनेंगे हम



रचना को पूरा पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें...

केवल शब्द

शब्दों को कविता बनते हमने देखा
अक्षर में खुद को गिरते हमने देखा
बनने को सौ यार यहाँ बन जाते हैं
अपनों को बेगाना बनते हमने देखा

रचना को पूरा पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें...

घोड़ा… कुछ यादें बचपन की

था  मैंने  इक  सपना  देखा
सपने  में  था  घोड़ा
मटक – मटक  के  चला  कभी  वो
कभी  था  सरपट  दौड़ा …..
आँखे  उसकी  कजरारी  थी
चल  बड़ी  थी  प्यारी
परी  लोक  का  लगता  था वो
देखे  दुनिया  सारी …..

Tuesday, 14 June 2016

तेरे नैन मेरे बैन …


तेरे नयनो की धवल शांति में
डूबता तैरता मेरा मन
कभी तिनके का सहारा
कभी स्वयं जलधारा
नयनो के सहारे हृदय की दहलीज़ पर
दस्तक देता मेरा मन
जाने कब से तेरी भावना के सागर में उफान के इंतज़ार में
खड़ा हुआ............


रचना को पूरा पढ़ने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें...

http://yaaden.in/%E0%A4%A4%E0%A5%87%E0%A4%B0%E0%A5%87-%E0%A4%A8%E0%A5%88%E0%A4%A8-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%B0%E0%A5%87-%E0%A4%AC%E0%A5%88%E0%A4%A8/


मृगमरीचिका

मृगमरीचिका

रेगिस्तान की सांद्र उमस में
भटके पथिक सा मन
कभी यहाँ कभी वहां
लक्ष्य के पीछे भागता
हर क्षण प्रतिक्षण
सामने, बस एक कदम दूर
तत्क्षण ही अदृश्य
समय की गति सा
आगम और निगम …..
रेगिस्तान की झुलसती बारिश में
भीगता तड़पता मेरा मन
हर क्षण आतुर
जल के लिए
सामने है नज़र
सम्मुख आए तो मिली
मृगतृष्णा,
व्याकुल, विह्वल और कोमल
दौड़ता भागता मेरा मन …..
रेगिस्तान की तड़पती आंधियों में
मोर पपीहे सा चीखता मन
तड़प बस एक बूँद की
चाह झलक की
पुकार एक चाह की
शोले की दहक में
शबनम की चाह
जीवन की राह में
मृत्यु का आलिंगन
रेगिस्तान की सांद्र उमस में
दौडता भागता मेरा मन…..
मेरा मन